Triphala Churna 100gm (त्रिफला चूर्ण)

Product ID: ITM00013

₹ 70.00 Add to cart

Availability: In Stock

Brand: Arogya Path

Triphala Churna 100gm (त्रिफला चूर्ण)

त्रिफला चूर्ण के घटक -
हरड़
बहेड़ा
आंवला

•    त्रिफला त्रिदोष हर है, यह वात, पित्त और कफ तीनों को नियंत्रित रखता है|
•    गैस, खट्टी डकार, पेट-दर्द में भारीपन एवं अफारा आदि में लाभकारी है|
•    जीर्ण कब्ज का नाश करता है, बड़ी आंत में मल को जमने नहीं देता|
•    सम्पूर्ण पाचन तंत्र को शक्ति प्रदान करता है|   
•    कोलेस्ट्रोल को नियांत्रित कर हृदय को शक्ति प्रदान करता है|
•    बढ़ती हुई आयु में शरीर पर होने वाले दुष्प्रभावों को कम करता है|
•    रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है|
•    सप्त धातुओं की पुष्टि करता है|
•    त्रिफला का बालों पर अच्छा प्रभाव है|
•    शरीर की बढ़ी हुई चर्बी कम करता है|
•    त्रिफला के सेवन से दांतों और मसूड़ों पर भी  अच्छा प्रभाव पड़ता है|

•    Triphala balances all three doshas in body.
•    It provides relief in excessive gas production, stomach heaviness, indigestion like problems.
•    It is trusted remedy for constipation.
•    Triphala improves digestion and thus strengthens the heart.
•    It has antioxidant effect which slows down ageing process.
•    It helps in reducing extra fat from body.
•    Triphala is known for improving hairs quality.
•    It has strong positive effect on gums and teeth.
•    Triphala boosts immunity.

अरोग्यपथ त्रिफला चूर्ण (AROGYAPATH TRIPHALA CHURAN) त्रिदोष के लिए सर्वोत्तम उपाय है। यह पेट की हर समस्या को ठीक करता है तथा कब्ज से तुरंत राहत देता है। यह पेट दर्द, उदार वायु (Gastric Problems) की समस्याओं आदि में भी लाभकारी है।

यह आंतो की रक्षा कर आंत दर्द से राहत देता है। अरोग्यपथ त्रिफला चूर्ण (AROGYAPATH TRIPHALA CHURAN) शरीर से अतिरिक्त वसा को हटाने में भी मदद करता है। त्रिफला रेचक (Laxative) के रूप में बढ़िया काम करता है और मल त्यागने की क्रिया में होने वाली समस्याओं को ठीक करता हैं।

अरोग्यपथ त्रिफला चूर्ण (AROGYAPATH TRIPHALA CHURAN) आपके शरीर के विषैले तत्वों (Detoxification) को निकलता है तथा आपकी त्वचा को चमकदार बनाता है।

यह पोषक तत्वों से भरपूर है तथा आंखों की रोशनी में सुधार लाता हैं और रक्त परिसंचरण बढ़ाता है। अरोग्यपथ त्रिफला चूर्ण (AROGYAPATH TRIPHALA CHURAN) सूजन (Edema) को भी कम करता है।

यह आमतौर पर आंतो के शक्तिवर्धक औषध (Bowel Tonic) के रूप में जाना जाता है, जो पाचन में सहायक होता एवं मल त्याग में सहायता करता है।

त्रिफला तीन फलों का यौगिक है:- हरितकी, बिभीतकी और अमलाकी। हरितकी वात दोष के लिए उत्तम है, बिभिटकी कफ दोष के लिए उत्तम है और अमलाकी पित्त दोष के लिए उत्तम है।

आयुर्वेद में वात, पित्त और कफ शरीर विज्ञान के मूलभूत सिद्धांत हैं।

त्रिफला चूर्ण से काया कल्प
1:2:4 अनुपात से त्रिफला चूर्ण के लिये हरड़ पीली, बहेड़ा छिलका, आंवला स्वच्छ एवं गुठली रहित विधि द्वारा निर्मित त्रिफला चूर्ण, त्रि दोष नाशक अमृत तुल्य रसायन है। जितनी आयु उतने रत्ती चूर्ण प्रातः काल खाली पेट ताजे जल के साथ 12 वर्ष तक सेवन करें। उसके बाद एक घंटे तक कुछ भी नहीं खाना चाहिए।
भारतवर्ष में छः ऋतुएँ एक वर्ष में अपना चक्र पूरा करती हैं, अतः प्रत्येक ऋतु के अनुसार त्रिफला चूर्ण में अधोलिखित पदार्थों का मिश्रण करना चाहिए।

1 बसन्त ऋतु 14 मार्च से 13 मई शहद के साथ अवलेह बना कर सेवन करें।
2 ग्रीष्म ऋतु 14 मई से 13 जुलाई 1/4 भाग गुड़ के साथ ।
3 वर्षा ऋतु 14 जुलाई से 13 सितंबर 1/8 भाग सेंधा नमक के साथ।
4 शरद ऋतु 14 सितंबर से 13 नवम्बर 1/6 भाग देशी खांड अथवा बूरा मिला कर ।
5 हेमंत ऋतु 14 नवम्बर से 13 जनवरी 1/8 भाग सोंठ मिला कर
6 शिशिर ऋतु 14 जनवरी से 13 मार्च 1/8 भाग पीपल चूर्ण मिला कर।

अति महत्वपूर्ण

काया कल्प करने के लिए दृढ़ इच्छाशक्ति, धैर्य, सात्त्विक आहार, विलासता से दूर दृढ़ संकल्प के साथ सयंमित जीवन शैली एवम आध्यात्मिक वातावरण में सर्वे भवन्तु सुखिनः की भावना आवश्यक है।